अमिताभ बच्चन सफलता की कहानी [SUCCESS OF AMITABH BACHCHAN]

    अमिताभ बच्चन सफलता की कहानी




    परिचय


हिंदी सिनेमा में पिछले चार दशकों से राज करने वाले व्यक्ति जिनका नाम अमिताभ बच्चन है! उन्हें उनकी दमदार अभिनय तथा बेहतरीन फिल्मों की वजह से बिग बी का खिताब प्राप्त हुआ! वह हिंदी सिनेमा की सबसे बड़ी तथा प्रभावशाली अभिनेता माने जाते हैं!
सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के तौर पर उन्हें तीन बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिल चुका है तथा 14 बार फिल्मफेयर अवार्ड मिल चुका है! भारत सरकार ने उन्हें पद्मश्री तथा पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया है! वह फिल्मों में अभिनय के साथ-साथ गायक,निर्माता तथा टीवी प्रेजेंटर भी हैं!


    जन्म शिक्षा तथा शादी


अमिताभ बच्चन का जन्म इलाहाबाद जिले में हुआ था! इनके पिता का नाम हरिवंश राय बच्चन जो कि एक मशहूर कवि थे तथा इनकी माता का नाम तेजी बच्चन था! उनके एक छोटे भाई भी हैं! जिनका नाम अजिताभ बच्चन है! आप का पहले नाम इंकलाब रखा गया था लेकिन उनके पिता के साथ ही रहे मशहूर कवि सुमित्रानंदन पंत के कहने पर उनका नाम अमिताभ रखा गया!
अमिताभ बच्चन ने अपनी पढ़ाई नैनीताल के शेरवुड कॉलेज से की है! इसके बाद की पढ़ाई उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोड़ीमल कॉलेज से की है! अमिताभ बच्चन की गिनती कक्षा के अच्छे तथा शिष्टाचार छात्रों में होती थी! कहीं ना कहीं यह उनके पिता से ही उनमें आए हैं! अमिताभ बच्चन का जन्म बॉलीवुड की ही एक अभिनेत्री रह चुकी जया बच्चन से हुआ है! इनसे उन्हें दो बच्चे भी हैं, जिनका नाम अभिषेक बच्चन तथा श्वेता नंदा है! बच्चन एक अभिनेता हैं! तथा श्वेता नंदा एक लेखिका है!


    करीयर तथा प्रसिद्ध फिल्में


अमिताभ बच्चन की शुरूआत फिल्मों में वॉयस नैरेटर के तौर पर फिल्म ‘भुवन शोम’ से हुई थी लेकिन अमिताभ बच्चन एक अभिनेता के तौर पर पहली फिल्म सात हिंदुस्तानी से हुई! इसके बाद उन्होंने कई फिल्में की लेकिन वह सफल नहीं हो पाई! लगातार उनकी 12 फिल्में पूरी तरह से फ्लॉप होने के बाद उन्होंने अपने अभिनय तथा अपने मेहनत के दम पर फिल्म जंजीर में अपने अभिनय का जलवा बिखेरा जो कि उनका टर्निंग पॉइंट था! इसके बाद उन्होंने हिट फिल्मों की लड़ी ही लगा दी तथा सभी दर्शकों के दिलों में अपनी जगह भी बना ली! फिल्म इंडस्ट्री में अपने
अभीनय का लोहा भी मनवाया!
अमिताभ बच्चन ने वैसे तो बहुत सी फिल्मों मैं अपने दमदार अभिनय से जलवा बिखेरा है पर उनमें से कुछ फिल्में यह है
सात हिंदुस्तानी, आनंद, जंजीर, अभिमान, सौदागर, चुपके चुपके, दीवार, शोले, कभी कभी, अमर अकबर एंथनी, त्रिशूल, डॉन, मुकद्दर का सिकंदर, मि. नटवरलाल, लावारिस, सिलसिला, कालिया, सत्ते पे सत्ता, नमक हलाल, शक्ति, कुली, शराबी, मर्द, शहंशाह, अग्निपथ, खुदा गवाह, मोहब्बतें, बागबान, ब्लैक, वक्त, सरकार, चीनी कम, भूतनाथ, पा, सत्याग्रह, शमिताभ जैसी शानदार फिल्मों ने ही उन्हें सदी का महानायक बना दिया।


    राजनीति में प्रवेश तथा सामाजिक कार्यों में आगे


Coolie मूवी में लगी चोट के बाद उन्हें लगा कि अब वह फिल्में नहीं कर पाएंगे! और उन्होंने राजनीति का रुक किया! उन्होंने आठवीं लोकसभा चुनाव में आपने गृहक्षेत्र इलाहाबाद की सीट से उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एच.एन बहुगुणा को काफी ज्यादा वोटों से हराया!
वे राजनीति में ज्यादा देर तक नहीं पाए! और उन्होंने फिल्मों को ही अपने लिए उचित समझा! जब उनकी कंपनी एनपीसीएल आर्थिक समस्याओं से जूझ रही थी! तब उनके मित्र तथा राजनीतिज्ञ अमर सिंह ने काफी हद तक मदद की! बाद में अमिताभ बच्चन ने अमर सिंह की समाजवादी पार्टी को काफी समर्थन दिया! उनकी पत्नी जया बच्चन ने समाजवादी पार्टी ज्वाइन की तथा राज्यसभा सदस्य बनी! अमिताभ ने पार्टी के लिए कई विज्ञापन तथा राजनैतिक अभियान किए! फिल्मों में एक बार उन्होंने फिर से वापसी की तथा फिल्म शहंशाह हिट साबित हुई! इसके बाद उनके agneepath में किए गए अभिनय को काफी सराहा गया! जिसके लिए उन्हें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिला!
अमिताभ बच्चन सामाजिक कार्यों में भी आगे हैं कर्ज में डूबे आंध्र के किसानों की मदद 1100000 रुपए देकर की! इसके अलावा और भी ऐसे मौके रहे हैं! जिसमें अमिताभ बच्चन ने अपनी दरियादिली दिखाई और लोगों की पूर्ण रुप से मदद की!
जून 2000 में एशिया के वे पहले व्यक्ति थे! जिनकी वैक्स की मूर्ति लंदन के मैडम तुसाद संग्रहालय में रखी गई! आप पर कई किताबें भी लिखी गई है! यह पूर्ण रूप से शाकाहारी हैं! पेटा एशिया द्वारा कराए गए कॉन्टेस्ट में उन्हें सेक्सीएस्ट वेजिटेरियन का टाइटल भी उन्हें दिया गया!


    अमिताभ के करियर का बुरा दौर


उनकी फिल्‍में अच्‍छा बिजनेस कर रही थीं कि अचानक 26 जुलाई 1982 को कुली फिल्‍म की शूटिंग के दौरान उन्‍हें गंभीर चोट लगी गई। दरअसल, फिल्‍म के एक एक्‍शन दृश्‍य में अभिनेता पुनीत इस्‍सर को अमिताभ को मुक्‍का मारना था और उन्‍हें मेज से टकराकर जमीन पर गिरना था। लेकिन जैसे ही वे मेज की तरफ कूदे, मेज का कोना उनके आंतों में लग गया जिसकी वजह से उनका काफी खून बह गया और स्‍थिति इतनी गंभीर हो गई कि ऐसा लगने लगा कि वे मौत के करीब हैं लेकिन लोगों की दुआओं की वजह से वे ठीक हो गए।


    परिणाम


अमिताभ के इलाहाबाद से लेकर मुंबई में अपना किस्मत आजमाने तक की कहानी यही बयां करती है कि व्यक्ति के अंदर किसी भी कार्य को पूर्ण रूप से करने की इच्छा तथा लग्न सकती हो तो वह बड़े से बड़े कार्य को भी आसानी से पूर्ण कर सकता है! कुछ अमिताभ बच्चन की इस जीवनी में देखने को प्राप्त होता है! यह वही अमिताभ बच्चन है जिन्हें ऑल इंडिया रेडियो से डाल दिया गया था इस वजह से कि उनकी आवाज रेडियो में बोलने के लायक नहीं थी उनकी आवाज मोटी थी! उसी मोटी आवाज के साथ आज पिछले चार दशकों से वह बॉलीवुड के महानायक तथा लोगों के दिलों में राज करने वाले व्यक्ति बन गए हैं!



मोटिवेशन बातें जानने तथा पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

www.actualdesire.com

Add Comment

%d bloggers like this: